रहने दो अब कि तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे, बरसात में कागज़ की तरह भीग गया हूँ। - sad shayari

रहने दो अब कि तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे, बरसात में कागज़ की तरह भीग गया हूँ।

sad shayari

Releted Post