😢बिछड़कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था, बेशक ये 😞ख्वाब था मगर हसीन कितना था।
 - sad shayari

😢बिछड़कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था, बेशक ये 😞ख्वाब था मगर हसीन कितना था।

sad shayari

Releted Post