क्या हुनर हे तेरा पगली, हमारे बेग से कोई पेन्सिल तक नहीं चुरा पाया और तूने सीने से दिल ❤️ चुरा लिया।
 - Best Shayari

क्या हुनर हे तेरा पगली, हमारे बेग से कोई पेन्सिल तक नहीं चुरा पाया और तूने सीने से दिल ❤️ चुरा लिया।

Best Shayari