Dillagi Shayari, Status, and Images in Hindi - Page 3

Best Dillagi Shayari, Status, Messages, and Quotes With Images in Hindi.

dillagi shayari

dillagi shayari

नज़रों का क्या कसूर जो दिल्लगी तुमसे हो गयी तुम हो ही इतने प्यारे कि मोहब्बत तुमसे हो गयी !

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

मोहब्बत में उस दौर से गुज़रा है ये दिल, के फिर दिल्लगी करना है मुश्किल।

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

मिले वो यार जो दिल की लगा कर हमें बहला रहे हैं दिल्लगी से !

Dillagi Shayari

Unique dillagi shayari

Unique dillagi shayari

मुझे कोई सपना मत समझना जिसे तुम अगली सुबह भूल जाओ ओ दिलबर साथ निभाना दिल्लगी न करना!

Dillagi Shayari

Amazing dillagi shayari

Amazing dillagi shayari

जिसे जानता नहीं वो शख्स क्यों अपना सा लगता है, है ये दिल्लगी या पिछले जन्म का रिश्ता है।

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

अभी तक तो बस दिल्लगी पर लिखता हूं, कोई करे मोहब्बत तो पल पल पर लिखूं।

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

दिल तोडना किसी का ये जिदंगी नही इबादत थी मेरी कोई दिल्लगी नही!

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

मोहब्बत के नाम पर ज़माने में दिल्लगी करते हैं लोग, रूह से कोई वास्ता नहीं यहाँ जिस्म की बंदगी करते हैं लोग।

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

मज़ा आ रहा है दिलबर से दिल्लगी में, नज़रे भी हमी पे है और पर्दा भी हमी से है!

Dillagi Shayari

dillagi shayari

dillagi shayari

न जाने क्यों तुम्हें अपना मानता हूँ मैं, दिल्लगी तो न थी ये जानता हूँ मैं।

Dillagi Shayari

1 2 3 4

You May Also Like

क्या लिखूँ अपनी जिंदगी के बारे में.. दोस्तों, वो लोग ही बिछड़ गए जो जिंदगी हुआ करते थे।

क्या लिखूँ अपनी जिंदगी के बारे में.. दोस्तों, वो लोग ही बिछड़ गए जो जिंदगी हुआ करते थे।

2 LINES Shayari

ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है लेकिन मैं सब भूल जाता हूँ।

ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है लेकिन मैं सब भूल जाता हूँ।

Desi Shayari

माँ-बाप के लिए क्या ‪शेर लिखूं, माँ-बाप ने ‪मुझे खुद शेर बनाया हैं !

माँ-बाप के लिए क्या ‪शेर लिखूं, माँ-बाप ने ‪मुझे खुद शेर बनाया हैं !

Maa Baap Shayari

अपनी पीठ से निकले खंजरों को जब गिना मैंने ठीक उतने ही निकले जितनो को गले लगाया था !

अपनी पीठ से निकले खंजरों को जब गिना मैंने ठीक उतने ही निकले जितनो को गले लगाया था !

Gulzar Shayari

 हद से बढ़ जाये तालुक तो गम मिलते हैं, हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हँ..

हद से बढ़ जाये तालुक तो गम मिलते हैं, हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हँ..

Sad Status

एक रात हसीं ऐसी भी हो जब फूल बिछे राहों में हो, एक चाँद फलक पे निकला हो एक चाँद मेरी बाहों में हो।

एक रात हसीं ऐसी भी हो जब फूल बिछे राहों में हो, एक चाँद फलक पे निकला हो एक चाँद मेरी बाहों में हो।

Chand Shayari